breaking news New

चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध: चीनी ऐप पर प्रतिबंध का व्यापारियों ने किया स्वागत

सरकार ने जिन ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है उनमें टिक टॉक, शेयर इट, क्वाई, यूसी ब्राउज़र, बुडोपैप, शेन, किंग्स में क्लास, डीयू बैटरी सेवर, हैलो, लकी, योर वर्क मेकअप, माई कम्युनिटी, सीएम ब्राउज़र, वायरस, क्लीनर, यूसी न्यूज़, क्लब फैक्ट्री, वीचैट सहित 59 ऐप शामिल हैं।

नई दिल्ली: बढ़ते तनाव के बीच भारत सरकार ने सोमवार को 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लागू कर दिया है। इनमें चीन का टिक टॉक, हैलो, यूसी न्यूज, यूसी ब्राउजर, क्लब फैक्ट्री एप्लिकेशन शामिल हैं।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के तहत प्रतिबंध लागू कर दिया है। इस अधिनियम के तहत, देश की संप्रभुता और अखंडता, देश की रक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है।

व्यापारिक संगठन, अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ ने चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध का स्वागत किया है। परिसंघ ने कहा है कि चीनी उत्पादों के बहिष्कार के अभियान को देश के सभी कोनों में ले जाया जाएगा।

कन्फेडरेशन के महासचिव परवीन खंडेलवाल ने सोमवार शाम यहां जारी एक बयान में कहा कि कॉन्फेडरेशन 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के सरकार के फैसले का समर्थन करता है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाकर एक बड़ा कदम उठाया है। चीनी सामानों के बहिष्कार के लिए राष्ट्रीय अभियान का एक मजबूत समर्थक संघ है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस साहसिक निर्णय के लिए बधाई के लायक हैं। देश के 7 करोड़ व्यापारी सरकार का पुरजोर समर्थन करते हैं, और अब अधिक जोरदार तरीके से अपने अभियान को देश के कोने-कोने में ले जाएगा।

मंत्रालय ने कहा कि एंड्रॉइड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर कुछ मोबाइल ऐप के बारे में विभिन्न स्रोतों से प्राप्त शिकायतों के साथ ही कई रिपोर्टें में इन ऐप का इस्तेमाल देश के बाहर स्थित सर्वरों से उपयोगकर्ता डेटा को अवैध रूप से चोरी करने और दुर्व्यवहार की सूचना प्राप्त हुआ था।

इस तरह से डेटा चोरी को राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए, सरकार ने कहा कि यह एक “बहुत गंभीर मुद्दा” है और तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता थी, जिसके लिए आपातकालीन उपायों की आवश्यकता थी। इसके साथ ही, देश के 130 मिलियन लोगों के लिए डेटा सुरक्षा को लेकर चिंता की बात है। इस तरह की चिंताएँ संप्रभुता और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी खतरा है।

[हम्स लाईव]

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password