breaking news New

अम्फान तूफान: प्रधानमंत्री ने बंगाल को एक हजार करोड़ रुपये देने की घोषणा की

अम्फान तूफान: प्रधानमंत्री ने बंगाल को एक हजार करोड़ रुपये देने की घोषणा की

कलकत्ता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पश्चिम बंगाल के लोगों को भरोसा दिलाया कि इस मुसीबत की घड़ी में पूरा देश उनके साथ है। केंद्र सरकार “अम्फान तूफान” से होने वाली तबाही से बंगाल को निकालने और बंगाल के पुनर्वास के लिए बंगाल सरकार को हर संभव सहायता देने के लिए तैयार है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि शुरू में केंद्र सरकार ने 1,000 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है।
प्रधानमंत्री मोदी ने ममता बनर्जी के साथ अम्फान तूफान द्वारा की गई तबाही का हवाई दृश्य लेने के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि अम्फान तूफान ने बंगाल में कहर बरपाया है और लाखों करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें बंगाल को इस दुर्दशा से बाहर निकालने के लिए मिलकर काम करेंगी।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की एक टीम जल्द ही बंगाल का दौरा करने और विकास के रास्ते पर चलने और कृषि, बिजली, संचार, सड़क, घरों और अन्य नुकसानों का निरीक्षण करने के बाद पुरा खाका बनाएगी। एक प्रभावी पुनर्वास योजना तैयार की जाएगी। प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि हम बंगाल के पुनर्निर्माण के लिए जो भी आवश्यक है उसे पूरा करने के लिए खड़े रहेंगे।

उन्होंने कहा, “तुरंत हमने बंगाल सरकार को 1,000 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है।” ताकि जल्द से जल्द पुनर्वास का काम शुरू किया जा सके।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि तूफान में जिन लोगों की मौत हो गई है उनके परिजन के प्रधानमंत्री राहत कोष से 2 लाख रुपये दिए जाएंगे। इसके अलावा, घायलों के इलाज के लिए 50 हजार रुपये तक प्रदान किए जाएंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस के संकट से जूझ रही है और इसे दूर करने की कोशिश कर रही है। भारत भी कोरोना के खिलाफ युद्ध लड़ रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस और तूफान से निपटने का मंत्र अलग है। कोरोना वायरस का मंत्र जहां आप हैं, वहीं रहे और सामाजिक दूरी बनाए रखें जबकि तूफान के लिए जरूरी है कि लोगों को जल्द से जल्द सुरक्षित स्थान पर भेजा जाए। बंगाल को दो अलग-अलग लड़ाई लड़नी पड़ रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ममता बनर्जी के नेतृत्व में बंगाल सरकार इस मोर्चे पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रही है और केंद्र सरकार ने तूफान आने से पहले उसे जो काम करना चाहिए था उस में भी राज्य सरकार की मदद की और तूफान के बाद राहत, पुर्ननिर्माण मदद के लिए तैयार है। इसलिए, केंद्र ने अग्रिम के रूप में 1,000 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री ने राजा राम राय मोहन को याद करते हुए कहा आज उनकी जयंती है और बंगाल की भूमि पर गर्व है, यह राजा राम मोहन राय की भूमि है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। हम उम्मीद करते हैं कि राजा राम मोहन राॅय का आशिर्वाद हमें हासिल रहेगा और हम सब मिलकर बंगाल के विकास के लिए काम करेंगे और यह उनके लिए सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।

प्रधान मंत्री ने कहा कि मैं बंगाल के प्रत्येक नागरिक को आश्वस्त देता हूं कि पूरा देश इस मुसीबत के समय में आपके साथ है और भारत सरकार किसी भी तरह से मदद करने के लिए तैयार है। मैं यहां आप सभी से मिलने आया था। लेकिन कोरोना वायरस के कारण यह संभव नहीं हो सकता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वह यहां से उड़ीसा जा रहा हूं और वहां हुए नुकसान की समीक्षा करूगाॅ।

बुधवार को आए अम्फान तूफान ने 77 लोगों की मौत और लाखों रुपये का नुकसान हुआ हैं। कई लाख मकान ढह गए हैं और हजारों हेक्टेयर भूमि नष्ट हो गई है। कल, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि मैंने बंगाल में ऐसी तबाही कभी नहीं देखी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर जगह तबाही और तबाही का दृश्य हैं। उन्होंने कहा था कि यह राजनीति के लिए नहीं, बल्कि बंगाल को मिलकर निर्माण का समय हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बंगाल के पुनर्निर्माण के लिए देश की जनता को भी आगे आना चाहिए। ममता बनर्जी ने क्षति का आकलन करने के लिए प्रधान मंत्री मोदी को हवाई यात्रा के लिए बंगाल आने के लिए आमंत्रित किया था। इसके बाद ही प्रधानमंत्री ने बंगाल की यात्रा करने का निर्णय लिया।

[हम्स लाईव]

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password