breaking news New

लॉकडाउन के कारण नौकरी खोने के बाद, प्रोफेसर बना मैकेनिक

लॉकडाउन के कारण, कॉलेज के प्रबंधन ने पिछले महीने के वेतन का भुगतान भी नहीं किया था, जिसके कारण से घर चलाना मुश्किल हो गया था, जिसके बाद वह गांव लौट आकर मोटरसाइकिल मैकेनिक के रूप में काम करना शुरू कर दिया।

हैदराबाद: कई दशकों से अधिकांश कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर के रूप में काम करने वाले रविंदर का जीवन कोविड -19 के प्रभाव के कारण ठहराव की स्थिति में आ गया और अब वह मैकेनिक के रूप में काम करने के लिए मजबूर हो गया।

लॉकडाउन के मद्देनजर वित्तीय कठिनाइयों का सामना कर रहे रविंदर, तेलंगाना के खम्मम जिले में लौट गया क्योंकि रोजगार के अवसर से वंचित हो गया था।

रविन्द्र खम्मम जिले की मढि़या नगर पालिका की बंजारा कॉलोनी से संबंध रखता है। दस साल पहले अपनी बीटेक पूरा करने के बाद इसने खम्मम और राज्य की राजधानी हैदराबाद में कुछ कालेजों में सहायक प्रोफेसर के रूप में और इस साल मार्च तक सेवाए प्रदान किए।

रविंदर ने हैदराबाद के एक निजी कॉलेज में मैकेनिकल विभाग में सेवाए प्रदान किया था। लॉकडाउन के कारण, कॉलेज प्रबंधन ने उनके पिछले महीने के वेतन का भुगतान भी नहीं किया, जिसके कारण घर चलाना मुश्किल हालात का सामना करना पड़ रहा था, जिसके बाद इसने अपने गाँव वापस होकर मोटरसाइकिल मैकेनिक के रूप में सेवाए शुरू कर दिया।

रविंदर का कहना है कि उसकी पत्नी भी एम.टेक है। लॉकडाउन के कारण अपने दो बच्चों के साथ अपने गृहनगर लौट आ गया और रविंदर ने मैकेनिक के रूप में सेवा की शुरुआत कर दी है।

[हम्स लाईव]

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password